मेलापक: कक्षा छठवीं विषय संस्कृत पाठ 9

कक्षा छठवीं विषय संस्कृत पाठ 9 मेलापक:

अहमदः – मोहन ! अद्य तु तव वेशः अतीव सुन्दरः अस्ति ।

मोहन: -अहमद ! किं त्वं न जानासि यद् अद्यं अस्माकं ग्रामे विजयदशम्याः मेलापकः अस्ति। अद्य अहं तत्र गच्छामि । ग्रामस्य अन्ये बालकाः बालिकाः अपि तत्र गमिष्यन्ति । किं त्वं मया सह न चलिष्यसि ?

अहमदः – मोहन ! अयं तु महान् सु-अवसरः अस्ति वद तत्र किं भविष्यति ? 

मोहनः- भ्रातः ! तत्र महान् जनसम्मर्दः भविष्यति । तत्र आवां विविधानि दृश्यानि द्रक्ष्यावः राम- रावणयोः युद्धस्य अभिनयः अपितन्त्र भविष्यति ।

शब्दार्थाः– अद्य = आज, तु= तो, तव= तुम्हारा, कथय = कहो, कथं =कैसे, मेलापक: = मेला, तत्र = वहाँ, गच्छामि = जा रहा हूँ, अपि = भी, सह = साथ, वद = बोलो, भविष्यति = होगा, जनसम्मर्दः = भीड़, आवां= हम दोनों, द्रक्ष्यावः = देखेंगे।

अनुवाद-

अहमद:   मोहन ! आज तो तुम्हारी पोशाक अत्यन्त सुन्दर है। कहो, कैसे नये वस्त्र धारण करते हो ?

मोहन – अहमद ! क्या तुम नहीं जानते कि आज हमारे गाँव में विजयादशमी का मेला है। आज मैं वहाँ जा रहा हूँ। गाँव के अन्य बालक-बालिकाएँ भी वहाँ जायेंगे। क्या तुम मेरे साथ नहीं चलोगे ?

अहमद -मोहन! यह तो बहुत अच्छा मौका है। बोलो, वहाँ क्या होगा ? 

मोहन – भाई! वहाँ बहुत बड़ी भीड़ होगी। वहाँ हम दोनों विविध दृश्यों को देखेंगे। राम-रावण के बुद्ध का अभिनय भी वहाँ होगा।

अहमदः कीदृशं युद्धं सुस्पष्टं कथय ? किं तत्र रामलीला भविष्यति ?
 मोहनः – आम! तावत् त्वं तु जानासि एव। पुनः किं पृच्छसि ? अतः त्वम् अपि सज्जितः भव। 
अहमदः – क्षणं विरम, अहम् अपि सज्जितः भवामि। स्मरामि गतवर्षे अपि अहं मातुलग्रामे रामलीलाम् अपश्यम् । तत्र ऋक्षराजजामवन्तस्य अभिनयः अति मनोहरः आसीत् । अन्यानि अपि बहूनि दृश्यानि मनोहराणि आसन्। तत्र अहं अवश्यमेव गमिष्यामि।
मोहन: -आगच्छ, आवां चलावः ।

शब्दार्था:- कीदृशं =किस प्रकार का भविष्यति =होगा, आम= हाॅ, सज्जित :भव= तैयार हो जाओ, क्षणं =थोड़ा, विरम= रुको, मातुल =मामा, अपश्यम् = देखा, मनोहर = सुन्दर, आसन् = थे, तत्र = वहाँ, गमिष्यामि =जाऊँगा, आवा =हम दोनों।

अनुवाद- 

अहमद – किस प्रकार का युद्ध, स्पष्ट कहो ? क्या वहाँ रामलीला होगी ?

मोहन हाँ! इतना तो तुम जानते ही हो। फिर क्यों पूछते हो? अतः तुम भी तैयार हो जाओ। 

अहमद -थोड़ा रुको, मैं भी तैयार होता हूँ। मुझे याद है, पिछले वर्ष भी मैंने मामा के गाँव में रामलीला देखी थी। वहाँ ऋक्षराज जामवन्त का अभिनय अत्यन्त सुन्दर था। अन्य भी बहुत से दृश्य सुन्दर थे। वहाँ मैं अवश्य हो जाऊँगा। 

मोहन -आओ, हम दोनों चलते हैं।

You might also like