दीपावलिः कक्षा छठवीं विषय संस्कृत पाठ 16

दीपावलिः कक्षा छठवीं विषय संस्कृत पाठ 16

अस्माकं देशस्य नाम भारतवर्षः । एतस्मिन् देशे बहवः धर्मावलम्बिनः निवसन्ति । अतः अत्र अनेके उत्सवाः आयोज्यन्ते । एतेषु उत्सवेषु दीपावलिः अपि विशिष्टः महोत्सवः । अस्य नाम मात्रेण अपि जनानां मनसि आनन्दस्य सञ्चारः भवति ।

शब्दार्था:- अस्माकं = हमारे, एतस्मिन् = इस, बहव: = बहुत, धर्मावलम्बिनः = धर्मों को मानने वाले, आयोज्यन्ते = मनाये जाते हैं, जनानां = लोगों के मनसि = मन में।

अनुवाद – हमारे देश का नाम भारतवर्ष है। इस देश में बहुत से धर्मावलम्बी (धर्मों को मानने वाले) निवास करते हैं। अतः यहाँ अनेक उत्सव (त्यौहार) मनाये जाते हैं। इन उत्सवों में दीपावली भी विशिष्ट उत्सव है। इसके नाम मात्र से भी लोगों के मन में आनन्द का संचार होता है।

यदा श्रीरामः रावणं जित्वा चतुर्दशवर्षस्य वनवासान्तरम् अयोध्याम् आगच्छत् तदा सर्वेऽपि जनाः सोत्साहं नगरी सुसज्जिताम् अकुर्वन् । ते च दीपानां पंक्तिभिः श्री रामस्य स्वागताय परमानन्द-प्रदर्शनम् अकुर्वन् जनाः एवं उत्सवं कार्तिक मासस्य अमावस्यायां तिथौ मन्यन्ते। एवम् अयम् उत्सव: प्रतिवर्ष सम्पूर्ण भारतवर्षे सोत्साहं समायोज्यते ।

शब्दार्था:- यदा =जब, जित्वा = जीतकर, अन्तरम् = बाद, आगच्छत् = आये, सोत्साहं= उत्साह के साथ, मन्यन्ते =मनाते हैं, एवम् = इस प्रकार, समायोज्यते= मनाया जाता है।

अनुवाद -जब श्रीराम रावण को जीतकर चौदह वर्ष के वनवास के बाद अयोध्या आये तब सभी लोगों ने उत्साह के साथ नगर को सजाने का काम किया। वे सब दीपकों की कतारों से श्री राम के स्वागत के लिए परमानन्द (अत्यधिक आनन्द देने वाला) प्रदर्शन किये। लोग इस उत्सव को कार्तिक माह की अमावस्या तिथि में मनाते हैं। इस प्रकार यह उत्सव प्रतिवर्ष सम्पूर्ण भारतवर्ष में उत्साह के साथ मनाया जाता है।

इदानीं भारतीयाः दीपावल्याः पूर्वमेव स्वगृहाणि स्वच्छानि सुधाधौतानि च कारयन्ति। गृहेषु जीर्णानां वस्तूनां स्थाने नवानि वस्तूनि आनीयन्ते चित्रैः मूर्तिभिः च गृहाणि सुसज्जितानी क्रियन्ते । मिष्ठान्नविक्रेतारः नवनवः मिष्ठान्नैः पण्यालयानि सुसज्जितानि कुर्वन्ति विपणिषु जनानां महती गतागतिः भवति, महान् कोलाहलश्च भवति ।

(शब्दार्था:- इदानीम् =इस समय, गृहेषु =घरों में, चित्रैः = चित्रों से, विपणिषु = दुकानों में गतागतिः आना-जाना।

अनुवाद- इस समय भारतीय दीपावली के पहले ही अपने घरों को स्वच्छ एवं लिपाई-पोताई करवाते हैं। घरों में पुरानी (टूटी-फूटी) वस्तुओं के स्थान पर नयी वस्तुएँ लाते हैं। चित्रों एवं मूर्तियों से घरों को सजाते हैं। मिष्ठान्न विक्रेता नये-नये मिठाइयों से दुकानों को सुसज्जित करते हैं। दुकानों में लोगों का बहुत आना-जाना होता है, और बहुत कोलाहल (शौर) होता है।

दीपावल्यां जनाः नूतनानि वसनानि धारयन्ति । ते पण्यवीथिकासु गत्वा बहुविधानि वस्तूनि क्रीणन्ति। ते मिष्ठान्नानि क्रीत्वा इष्टमित्रेषु वितरन्ति ते नानाविधानि विस्फोटकानि विस्फोटयन्ति । जनाः लक्ष्मीं पूजयित्वा मिष्ठान्नानि खादन्ति ।

शब्दार्था:- नूतनानि = नये, वसनानि =वस्त्र, क्रीणन्ति = खरीदते हैं, नानाविधानि =अनेक प्रकार के, विस्फोटकानि= पटाखे, जनाः =लोग, पूजयित्वा = पूजा करके।

अनुवाद- दीपावली लोग नये वस्त्र धारण करते हैं। वे सब बाजार की गलियों में जाकर बहुत प्रकार की वस्तुएँ खरीदते हैं। वे सब मिठाइयाँ खरीदकर इष्ट मित्रों में बाँटते हैं। वे सब अनेक प्रकार के फटाकों को फोड़ते हैं। लोग लक्ष्मी को पूजकर मिष्ठान्नों को खाते हैं।

अयं उत्सवः भारतीयैः बहुउत्साहेन आयोज्यते। केचन् जनाः दीपावल्या : रात्रौ द्यूतक्रीड़ां कुर्वन्ति, मद्यपानम् अपि कुर्वन्ति तथा अनर्गलं व्यवहरन्ति एतत् तु न युक्तम्। एषः महोत्सव: आनन्दोत्सवः च । कुत्सितकर्माणि परित्यज्य सर्वः श्रद्धया आनन्देन च आयोजनीयः ।

शब्दार्था:- केचन् = कुछ, रात्रौ रात में, द्यूतक्रीड़ां जुआ, मद्यपानम् = शराब पीना, युक्तम् = ठीक, कुत्सित = खराब, परित्यज्य = छोड़कर।

अनुवाद – यह उत्सव भारतीयों द्वारा बड़े उत्साह के साथ मनाया। जाता है। कुछ लोग दीपावली को रात में जुआ खेलते हैं, मद्यपान (शराब पीते हैं) भी करते हैं तथा व्यर्थ व्यवहार करते हैं, यह तो उचित (ठीक) नहीं है। यह महोत्सव और आनन्द का उत्सव है। खराब कर्मों को छोड़कर सभी द्वारा श्रद्धा और आनन्द के साथ मनाया जाना चाहिए।

You might also like